Thursday, 1 March 2018

गगन का अंत नहीं है

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers




दूर गगन का कोई अंत नहीं है 
मन प्रफुल्लित न हो तो बसंत नहीं है 

जीवन के सफ़र में कांटे भी मिलेंगे
कुछ जख्मों से जीवन का अंत नहीं है 

मन के भावों को गर समझ पाए कोई 
गम एक भी हो तो खुशियाँ अनंत नहीं है 

टूटते हैं मूल्य स्वार्थ भरी दुनियां में 
कैसे कहें अब कोई संत नहीं है 

वक्त के साथ न बदल पाए 'राजीव'
आदमी है आम कोई महंत नहीं है 
    

17 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-03-2017) को "जला देना इस बार..." (चर्चा अंक-2897) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (02-03-2017) को "जला देना इस बार..." (चर्चा अंक-2897) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    रंगों के पर्व होलीकोत्सव की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. शुभकामनाएं स्वीकारें, सपरिवार

    ReplyDelete
  4. जीवन मे आने वाले कांटे ही सीख दी जाते है

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब...,बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति राजीव जी.

    ReplyDelete
  7. वाह.... बहुत ही सुन्दर....
    होली पर्व की आपको हार्दिक बधाई....

    ReplyDelete
  8. मन प्रफुल्लित न हो तो बसंत नहीं है

    Bahut hi pasand aayi ye line.

    ReplyDelete
  9. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/03/59.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया!!

    ReplyDelete
  11. दूर गगन का कोई अंत नहीं है
    मन प्रफुल्लित न हो तो बसंत नहीं है -------
    बहुत सुंदर !!!!!!! आदरणीय राजीव जी -- सभी पंक्तियाँ बहुत ही मर्मस्पर्शी और सार्थक हैं | सादर -------

    ReplyDelete
  12. जीवन के सफ़र में कांटे भी मिलेंगे
    कुछ जख्मों से जीवन का अंत नहीं है
    बहुत खबसूरत अल्फ़ाज़ राजीव जी , और ये तो बेहतरीन बन पड़ा है !!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...