Monday, 9 December 2013

कोरे ख़त आते रहे

                                                                   
                                    
                       हमने उनकी तुलना               
चाँद से क्या कर दी
वह रात भर आईने को
सताते रहे

अनजाने ही हो गई
कुछ ऐसी गुफ्तगू
अकेले में वह
घंटों मुस्कुराते रहे

साँझ की गोद में
रवि सो गया
रात भर चाँद के
ख्वाब आते रहे

इंतजार में
तितलियों के
फूल रात भर
ओस में नहाते रहे

 उनके प्यार की
यह कैसी अदा
 हमें उनके ख़त  
कोरे आते रहे
                                                                                                                
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...