Monday, 18 November 2013

मेघ का मौसम झुका है


बादल के कोर पर 
पलकों के छोर पर 
एक आँसू सा रुका है 
मेघ का मौसम झुका है 

धानी चुनरिया है 
धरती बावरिया है 
अधरों में प्यार का 
राज यह कैसा छुपा है
मेघ का मौसम झुका है 

मेघ बरसे देह भीजे 
हम फुहारों पे रीझे 
इन्द्र के पहले धनुष का 
बाण पलकों पर रुका है 
मेघ का मौसम झुका है 
                                                      

Monday, 11 November 2013

फिर वो दिन

                                                                                                                                                                                                         फिर वो दिन                                                                                          आ गए हैं                        
छलक उठे हैं
मधुमय मधुकलश

सोनजूही चम्पाकली
झूम रही मतवाली
महक उठी 
जीवन की डाली

मुस्काया
प्रकृति का 
कण कण
हर्षित तन मन 

सिंदूरी सूर्ख
अधर करें किलोल
शिरीष के पुष्प सा
सुनहरे हुए कपोल

आम्र मंजरी से सुरभित  
मन हुआ विभोर
बीता जाए 
पल पल

तुम बिन
नीरस नीरव
आकुल मन
  प्रतीक्षारत नैन  

Sunday, 3 November 2013

कुछ भी पास नहीं है

सब कुछ है देने को
मगर कुछ भी पास नहीं है
यूँ खुद को पिया है कि
हमें प्यास नहीं है

हम तो डूब ही गए
झील सी नीली आँखों में
और तुम हो कि
इस बात का अहसास नहीं है

लूटा है मुझे 
मेरे हाथों की लकीरों ने 
अपनी ही परछाई पर 
अब विश्वास नहीं है 

आसां नहीं है
बीती बातों को भुला देना
मेरे दर्द का तुम्हें  
 अहसास  नहीं है

कुछ मुरझाये फूलों से
कमरे को सजाया है
मेरे आँगन में खिलता
अमलतास नहीं है

यूँ टूट के रह जाना  
काफी तो नहीं
आने वाले कल का
ये आभास नहीं है  
                                                                                                                                                        
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...