Monday, 17 February 2014

दर्द सहा नहीं जाता


दर्द तो होता है मगर सहा नहीं जाता
तू सामने भी है मगर कहा नहीं जाता

जब से दोस्ती पत्थरों से की मैंने
शीशे के मकां में मुझसे रहा नहीं जाता

जिंदगी जहर ही सही मगर पिया नहीं जाता
जीते थे पहले भी तेरे बिन अब रहा नहीं जाता

राहों में मिल गए तो समझा हमसफ़र तुझे
चल तो दिए मगर मंजिल नज़र नहीं आता

सुकूं की तलाश में कहाँ कहाँ ढूँढा तुझे
बेताब मेरा दिल मगर वहां नहीं जाता

तू आ के थाम ले मेरे हाथों को
दर्दे दिल का मगर सहा नहीं जाता

ले चल मुझे ख्वाबों के उस गाँव
जुदाई का साया जहाँ नहीं जाता 
    

48 comments:

  1. पत्थरों से दोस्ती हो तो शीशे की मकान में रहा भी कैसे जाए !
    बेहतरीन ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बेहतरीन गजल है राजीव जी..
    बढियां...
    :-)

    ReplyDelete
  3. बेचैनी का आलम- सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (18-02-2014) को "अक्ल का बंद हुआ दरवाज़ा" (चर्चा मंच-1527) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  7. जब से दोस्ती पत्थरों से की मैंने
    शीशे के मकां में मुझसे रहा नहीं जाता
    बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  8. जब से दोस्ती पत्थरों से की मैंने
    शीशे के मकां में मुझसे रहा नहीं जाता


    ले चल मुझे ख्वाबों के उस गाँव
    जुदाई का साया जहाँ नहीं जाता

    ले चल मुझे सहारा देकर मेरे नाविक धीरे धीरे। ... बेहद सुन्दर गज़ल हर शैर काबिले दाद

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  10. जब से दोस्ती पत्थरों से की मैंने
    शीशे के मकां में मुझसे रहा नहीं जाता

    बहुत खूब
    सुन्दर गजल !

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन ग़ज़ल ......

    ReplyDelete
  12. बहुत ही बेहतरीन गजल है राजीव जी,धन्यवाद.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद ! राजेंद्र जी. आभार.

      Delete
  13. राजीव भाई , बहुत ही सुंदर , धन्यवाद
    Information and solutions in Hindi

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद ! आशीष भाई. आभार.

      Delete
  14. जिंदगी जहर ही सही मगर पिया नहीं जाता
    जीते थे पहले भी तेरे बिन अब रहा नहीं जाता ..
    प्रेम जब हद से ज्यादा होता है ऐसा ही होता है ... हर शेर लाजवाब है इस गजाल का ...

    ReplyDelete
  15. भावपूर्ण अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete

  16. ले चल मुझे ख्वाबों के उस गाँव
    जुदाई का साया जहाँ नहीं जाता
    ....................बेहतरीन गजल है राजीव जी..

    ReplyDelete

  17. ले चल मुझे ख्वाबों के उस गाँव
    जुदाई का साया जहाँ नहीं जाता

    ले चल मुझे भुलावा देकर मेरे नाविक धीरे धीरे !सुन्दर अति सुन्दर बिम्ब।

    ReplyDelete
  18. सुंदर प्रस्तुति..!

    ReplyDelete
  19. जब से दोस्ती पत्थरों से की मैंने
    शीशे के मकां में मुझसे रहा नहीं जाता
    गज़ब के अल्फाज लिखे हैं आपने श्री राजीव जी

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...