Monday, 11 November 2013

फिर वो दिन

                                                                                                                                                                                                         फिर वो दिन                                                                                          आ गए हैं                        
छलक उठे हैं
मधुमय मधुकलश

सोनजूही चम्पाकली
झूम रही मतवाली
महक उठी 
जीवन की डाली

मुस्काया
प्रकृति का 
कण कण
हर्षित तन मन 

सिंदूरी सूर्ख
अधर करें किलोल
शिरीष के पुष्प सा
सुनहरे हुए कपोल

आम्र मंजरी से सुरभित  
मन हुआ विभोर
बीता जाए 
पल पल

तुम बिन
नीरस नीरव
आकुल मन
  प्रतीक्षारत नैन  

58 comments:

  1. प्रकृति मतवाली ले हिलोर मानव भी संग उसके !
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  2. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete
  3. सुन्दर वर्णन-

    आभार भाई जी-

    ReplyDelete
  4. सुन्दर वर्णन-

    आभार भाई जी-

    ReplyDelete
  5. Very beautifully composed. Nice words.

    ReplyDelete
  6. बहुत नजाकत से लिखी गयी कविता |
    आशा

    ReplyDelete
  7. आकुल मन व प्रतीक्षारत नैन तो इस मौसम में हो ही जाते हैं।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  9. प्रकृति हमेशा कवियों को लिखने को प्रेरित करती है ..सुंदर ,,रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर भाई जी ! मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  11. सुन्दर भावों कि खूबशूरत लड़ियाँ सादर

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर प्रस्तुति |

    ReplyDelete

  13. तुम बिन
    नीरस नीरव
    आकुल मन
    प्रतीक्षारत नैन वाह !कैसी पीर उठी है।

    ReplyDelete
  14. कल 13/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. प्रेम और प्राकृति के मिलन से उपजी रचना ... कोमल एहसास लिए ...

    ReplyDelete
  16. बहुत खूबसूरत कविता !!

    ReplyDelete
  17. क्या कहने ..बहुत ही सुन्दर रचना...
    अति सुन्दर...
    :-)

    ReplyDelete
  18. राजीव भाई , हर बार की तरह सुन्दर शब्दों से सजी आपकी सुन्दर कृति , धन्यवाद
    * जै श्री हरि: *

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद ! आशीष भाई. आभार.

      Delete
  19. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  20. अति सुन्दर कृति..

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  22. prakritik bimbon ke madhyma se shandaar saundarya chitran sadar badhaaayee ke sath

    ReplyDelete
  23. सुन्दर रचना .. बहुत बधाई ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद ! नीरज जी. आभार.

      Delete
  24. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  25. Prakarti ki bahut sundar warna kiya he
    Sir apne

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...