Sunday, 22 March 2015

फिर कोई कहानी


Top post on IndiBlogger.in, the community of Indian Bloggers

क्या पता कैसी खुमारी
आज पलकों में समाई
मोहिनी उषा कपोलों में
संवर के मुस्कुरायी

पवन चल परदेश से
प्रिय की पदचाप लायी
थाम लो उर हर्ष विह्वल
मधुनिशा फिर संग लायी

करवटें लेने लगीं
फिर कल्पनाएं
जन्म लेने लग गयी
फिर कोई कहानी

यादों की हरीतिमा
मधुर स्मृति बन  
बंद होठों में
नगमा बन गुनगुनायी 
    

15 comments:

  1. प्रकृति और स्मृति का सुन्दर मेल....

    ReplyDelete
  2. प्रेम और प्राकृति का समन्वय ... सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  4. भारतीय नववर्ष एवं नवरात्रों की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (23-03-2015) को "नवजीवन का सन्देश नवसंवत्सर" (चर्चा - 1926) पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. यादों की हरीतिमा
    मधुर स्मृति बन
    बंद होठों में
    नगमा बन गुनगुनायी
    ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. बहुत बढियाँ

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब, मंगलकामनाएं आपको !!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर रचना...वासन्तिक नवरात्र की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  9. बहुत ख़ूब
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना , मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  11. पवन चल परदेश से
    प्रिय की पदचाप लायी

    वाह एक नये रूप में शब्दों का सुन्दर प्रयोग.
    बधाई

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...