Saturday, 4 April 2015

मनुहार वाले दिन



भर गए आकाश
भूरे बादलों से
रात आलोकित हुई
अब बिजलियों से
खिड़कियों से आ रही
चंचल हवाएं
यादों के गलियारों से
झांकते
मनुहार वाले दिन

ओस में भींगे  
क्यारियों में पुष्प
भ्रमरों को नए
संवाद देता
बूंद से बोझिल
सलोनी पत्तियां भी
हैं बजाती जा रही अब
पायलें रुनझुन
आ गए अब
मनुहार वाले दिन

डालियों पर
गूंजती हैं कोयलों के
अनवरत से स्वर
बादलों की ओट में
छुप रही चांदनी
मंद गति से
आ रही छनछन
आ गए अब
मनुहार वाले दिन
    

24 comments:

  1. आ गये अब मनुहार वाले दिन...

    वाह...

    बहुत खूब....!!

    ReplyDelete
  2. बादलों की ओट में
    छुप रही चांदनी
    मंद गति से
    आ रही छनछन
    आ गए अब
    मनुहार वाले दिन
    ..बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  3. हनुमान जयन्ती की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल रविवार (05-04-2015) को "प्रकृति के रंग-मनुहार वाले दिन" { चर्चा - 1938 } पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. ओस में भीगे ………

    मनुहार वाले दिन।

    भाव और भाषा की रुनझुन ,

    सुन सुन गुन गुन

    ReplyDelete
  5. डालियों पर
    गूंजती हैं कोयलों के
    अनवरत से स्वर
    बादलों की ओट में
    छुप रही चांदनी
    मंद गति से
    आ रही छनछन
    आ गए अब
    मनुहार वाले दिन
    vaah bahut sundar manuhar vaale din !

    ReplyDelete
  6. कोयल के गीत और चांदनी का आभास ... मनुहार वाले दिन तो स्वत: ही आ जाते हैं ...
    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. बहुत बढियाँ रचना

    ReplyDelete
  9. ये दिन उतने ही प्यारे हैं जितनी ये कविता।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  11. शानदार रचना....

    बारिशो को बोछारो से सूंदर चंचल..

    ReplyDelete
  12. बहुत ख़ूब ....खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. वा वाह …
    बड़े आनंद दायक दिन …
    मंगलकामनाएं आपको

    ReplyDelete
  14. सुप्रभात, इस सुंदर प्रस्तुति के लिए आप धन्यवाद के पात्र हैं।

    ReplyDelete
  15. gaanv me beeta bachpan yaad aa gaya...is bachpan wali muskurahat ke liye dhanyawaad aapko :-)

    ReplyDelete
  16. मनुहार वाले दिन बहुत ही बेहतरीन रचना। मुझे बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  17. आ गए अब
    मनुहार वाले दिन....बहुत...खूबसूरत

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...