Wednesday, 9 December 2015

मैं भी कुछ कहता हूँ



Image result for exchanging hot words jpg

मैं भी कुछ कहता हूँ
कुछ तू भी कहता जा
सारे जहाँ की फ़िक्र न कर
अपनी फ़िक्र करता जा

वक्त बड़ा नाजुक है
इंसां का कोई मोल नहीं
अपनी तक़दीर खुद ही लिख ले
खुद का सिकंदर बनता जा

मेरे सब्र का इम्तिहान न ले
न तू हद से गुजर जा
देख परिंदे भी घर लौट आए
तू भी घर लौट जा 

  
  

17 comments:

  1. अपनी तक़दीर खुद ही लिख ले
    खुद का सिकंदर बनता जा - wonderful!

    ReplyDelete
  2. manushya ko apne faisle khud hi lene hain, sundar rachna

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब। सही कहा वक्‍त बहुत नाजुक है, इंसा का कोई मोल नहीं।

    ReplyDelete
  4. beautiful. you expressed the truth in a fascinating way

    ReplyDelete
  5. बातें क्या करेंगे बात से तो भरता नहीं है पेट,
    आसमान को छू गए हैं दाल सब्जियों के रेट
    पक्षियों को खुला आकाश और अपने नियम है
    मुझे तो देर तक अभी ओवर टाइम लगाना है ।

    ReplyDelete
  6. बातें क्या करेंगे बात से तो भरता नहीं है पेट,
    आसमान को छू गए हैं दाल सब्जियों के रेट
    पक्षियों को खुला आकाश और अपने नियम है
    मुझे तो देर तक अभी ओवर टाइम लगाना है ।

    ReplyDelete
  7. बातें क्या करेंगे बात से तो भरता नहीं है पेट,
    आसमान को छू गए हैं दाल सब्जियों के रेट
    पक्षियों को खुला आकाश और अपने नियम है
    मुझे तो देर तक अभी ओवर टाइम लगाना है ।

    ReplyDelete
  8. Very nice poem, i liked this

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  10. वक्त बड़ा नाजुक है
    इंसां का कोई मोल नहीं
    अपनी तक़दीर खुद ही लिख ले
    खुद का सिकंदर बनता जा

    सुंदर भाव राजीव जी !

    ReplyDelete
  11. बहुत ख़ूब प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर कविता!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...