Saturday, 26 December 2015

तुम्हारे ख़त

Top post on IndiBlogger.in, the community of Indian Bloggers



क्या-क्या न बयां कर जाते हैं तुम्हारे ख़त
कभी हँसा कभी रुला जाते हैं तुम्हारे ख़त

मौशिकी का ये अंदाज कोई तुमसे सीखे
कौन सी संगीत सुना जाते हैं तुम्हारे ख़त

खतो-किताबत का रिवायत तुमसे ही सीखा
मजलूम को मकसूस कराते हैं तुम्हारे ख़त

तनहा रातों में सुलग उठता है सीने में
दर्दे दिल की दवा बन जाते हैं तुम्हारे ख़त

‘राजीव’ तुम बिन कट न पाए तनहा सफ़र
बियाबां में ओस की बूंद दिखा जाते हैं तुम्हारे ख़त 

    

20 comments:

  1. वाह ! अनुपम अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  2. बियाबां में ओस की बूंद दिखा जाते हैं तुम्हारे ख़त...kyaa khoob likha hai Rajeev sahab!

    ReplyDelete
  3. राजीव जी, बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  4. खतो-किताबत का रिवायत तुमसे ही सीखा
    मजलूम को मकसूस कराते हैं तुम्हारे ख़त

    तनहा रातों में सुलग उठता है सीने में
    दर्दे दिल की दवा बन जाते हैं तुम्हारे ख़त
    सुन्दर अल्फ़ाज़ों से सजी शानदार अभिव्यक्ति राजीव जी !!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-12-2015) को "पल में तोला पल में माशा" (चर्चा अंक-2203) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  7. khat beshak aaj kal na likhe jate hon par unki yaad aaj bhi vyakti ko shayarana kar deti hai, sunder rachna

    ReplyDelete
  8. क्या-क्या न बयां कर जाते हैं तुम्हारे ख़त
    कभी हँसा कभी रुला जाते हैं तुम्हारे ख़त
    ...बहुत खूब!
    जाने कितनी ही यादों का भंवर जाल होते हैं खत ...

    ReplyDelete
  9. अब तो ख़त लिखने का दौर मानों खत्‍म ही हो गया है। आधुनिक तौर तरीकों में वह भावनाएं नहीं उमड़तीं जो कागज के लिफाफे को देखकर उमड़ा करती थीं। पर आज भी अपने अज़ीज़ों के वह पुराने ख़त लोग संभाल कर रखते है, उनमें यादें जो घर बनाकर रह रही हैं।

    ReplyDelete
  10. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  11. बेहद प्रभावशाली रचना......बहुत बहुत बधाई.....

    ReplyDelete
  12. ख़त के नाम से ही दिल धड़कने लगता है सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  13. चाहे कितनी भी ए बी सी डी ई मेलें ईजाद हो गयी हों
    खतों के जैसा वह इंतजार, भावनाएं कहाँ रह गयीं हैं। गोया कि हर तरह की सुगंध जरूर उपलब्ध है पर फूलों समेत सुवास कहाँ रह गयी है !

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब ... ये ख़त भी गजाब की शै होते हैं ...
    पर आज नेट के जमाने ने इसको अहमियत और प्रेम के मायने बदल दिए हैं ...
    लाजवाब शेर ...

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...