Sunday, 18 October 2015

नई सुबह आई है चुपके से

Top post on IndiBlogger.in, the community of Indian Bloggers

नई सुबह
आई है चुपके से
अंधियारा छट गया
आगोश में भर लें
स्वागत करें
नई सुबह का !

फेफड़ों में भर लें
ताज़ी हवा
नई सुबह की
रेत पर चलें
नंगे पांव
छोड़ें क़दमों के निशां
नई सुबह
आई है चुपके से !

पत्तों के कोरों पर
बिछी है मोती
सुबह के ओस की
अंजुरी में भर लें
समेत लें मनके
थोड़ी खुशियां
मन में भर लें
नई सुबह
आई है चुपके से !

मंदिर के चौखट तक
चले जाते हैं कदम
हौले-हौले बजती हैं घंटियां
लोबान के धुएं में
छा जाती है मदहोशी
हो जाता है हल्का मन
नई सुबह आई है चुपके से !


    

15 comments:

  1. मंदिर के चौखट तक
    चले जाते हैं कदम
    हौले-हौले बजती हैं घंटियां
    लोबान के धुएं में
    छा जाती है मदहोशी
    हो जाता है हल्का मन
    नई सुबह आई है चुपके से !

    ............बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 19/10/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर... लिंक की जा रही है...
    इस चर्चा में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...


    ReplyDelete
  3. मन को प्रफुल्लित करती बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर कविता है नई सुबह नया दिन नयी उमंग

    ReplyDelete
  6. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, कॉर्प्रॉट सोशल रिस्पोंसबिलिटी या सीएसआर कितना कारगर , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही मनमोहक रचना।

    ReplyDelete
  8. नयी सुबह ऐसे ही आती रहे और ताज़ी हवा के झोंके बिखराती रहे.

    सुंदर कविता ताजगी भरती.

    ReplyDelete
  9. मनमोहक रचना।
    Recent Post शब्दों की मुस्कराहट पर मांझी: द माउंटेन मैन :)

    ReplyDelete
  10. Bahut sunder subah sakar Kar dee. Bahut abhar.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...