Tuesday, 6 October 2015

दिल मचल गया होता

Top post on IndiBlogger.in, the community of Indian Bloggers

फिर कहीं दिल मचल गया होता
वक्त तक होश में जो रहा होता

इक आग सुलग उठती सीने में
रफ्ता-रफ्ता जो हवा दिया होता

इस उम्र का तकाजा भी क्या कहिए
दिल के हाथों मजबूर न हुआ होता

ये तो अच्छा हुआ लोग सामने न थे
वरना भीड़ से पत्थर उछल गया होता

दर्दे दिल की दवा क्या करिए ‘राजीव’
दिल अपने वश में जो रहा होता

  
    

9 comments:

  1. इस उम्र का तकाजा भी क्या कहिए
    दिल के हाथों मजबूर न हुआ होता

    ये तो अच्छा हुआ लोग सामने न थे
    वरना भीड़ से पत्थर उछल गया होता
    बहुत बेहतरीन श्री राजीव जी !!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. अपने ब्लॉगर.कॉम ( www.blogger.com ) के हिन्दी ब्लॉग का एसईओ ( SEO ) करवायें, वो भी कम दाम में। सादर।।
    टेकनेट सर्फ | TechNet Surf

    ReplyDelete
  5. ये तो अच्छा हुआ लोग सामने न थे
    वरना भीड़ से पत्थर उछल गया होता....
    '......
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. वाह...बहुत ख़ूबसूरत अशआर...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर पंक्तियां।

    ReplyDelete
  8. Enjoy 15% Off on any of the print packages and the next Ebook for free to welcome 2016, and also get cash back offer Up to 3500

    Ebook Publishing cash back offer

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...